अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

4:45 pm
लेख का अंश… धागे से बँधे गैस भरे गुब्बारे एक बार हाथ से छूटते ही आसमान की सैर करने लगते हैं। आसमान में उड़ते ये रंग-बिरंगे गुब्बारे कितने खूबसूरत लगते हैं। सोचो, अगर इन गुब्बारों में बैठ कर आसमान की सैर करने का मौका मिले, तो कितना मजा आएगा। ये कहानी ऐसे ही गुब्बारों के बारे में हैं, जिनमें बैठकर आसमान में उड़ने का मजा लिया जा सकता है। ये आकार में विशालकाय होते हैं। इनके नीचे एक टोकरी बनी होती है, जिसमें लोग बैठते हैं। इसमें कुछ ऐसे यंत्र होते हैं, जिनकी सहायता से इन्हें मनचाही दिशा में मोड़ा जा सकता है या जब जी चाहे तब जमीन में उतारा जा सकता है। ये गुब्बारे वास्तव में है क्या? उनके द्वारा उड़ान कैसे भरी जाती है? इन पर विज्ञान का कौन-सा नियम लागू होता है? जैसे प्रश्न अनायास ही हमारे दिमाग में उभरने लगते हैं। तीन सौ वर्ष पहले फ्रांस के मोतिगाल्फियो नामक दो भाइयों ने इनकी खोज की थी। उन्होंने सबसे पहले गुब्बारों में बैठकर आसमान में उड़ने का कारनामा कर दिखाया। गुब्बारे को आसमान में उड़ाने के लिए इन्होंने गर्म हवा का प्रयोग किया। इसके बाद तो जैसे यह सिलसिला ही चल निकला। बाद में गर्म हवा के स्थान पर हाइड्रोजन गैस का इस्तेमाल किया जाने लगा। यह गैस हवा से हल्की होती है और आसानी से आसमान में ऊपर उठ जाती है। परंतु यह गैस अत्यंत ज्वलनशील होने के कारण दुर्धटनाएँ होने लगी। तब इस गैस क बदले में हीलियम गैस का उपयोग किया जाने लगा। धीरे-धीरे विकास के क्रम में विमानों का आविष्कार हुआ और लोग गुब्बारे को भूलने लगे। इसके प्रति लोगों की रूचि कम होने लगी। क्योंकि इन गुब्बारों की उड़ान वायु पर निर्भर करती थी। साथ ही ताप नियंत्रण का भी कोई समुचित प्रबंध नहीं था। एक समय ऐसा भी आया कि जब लोग इन गुब्बारों को पूरी तरह से भूल गए। बाद में एक बार फिर लोगों का ध्यान इसकी ओर गया। एक मजेदार साहसिक खेल के रूप में यह पुन: अपनी एक अलग पहचान बनाने लगा। इसकी तकनीकों में भी कुछ सुधार किए गए। जिसके कारण इसमें उड़ान भरना काफी आसान हो गया। इसमें मनोरंजन के साथ-साथ सुरक्षा का भी ध्यान रखा गया। दुनिया के कई हिस्सों में इनसे संबंधित क्लबों की स्थापना की गई। जहाँ लोग सुंदर-सुंदर रंग-बिरंगे गुब्बारे में बैठकर आसमान की सैर करने का मजा लेते हैं। आसमान में उड़ने वाले ये गुब्बारे विशेष प्रकार के होते हैं। वे मजबूत नायलॉन के कपड़े से बनाए जाते हैं। नायलॉन का यह कपड़ा वजन में काफी हल्का और मजबूत होता है। अत: सुरक्षा की दृष्टि से भी इसका महत्व बढ़ जाता है। गैस गुब्बारे से जुड़ी हुई अन्य रोचक जानकारियाँ इस ऑडियो की मदद से प्राप्त कीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.