अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:40 pm
कविता का अंश... अपनेपन की चली हवाएँ... अपनेपन की चली हवाएँ, हिन्दी के शृंगार से। हिन्दी के स्वर बुला रहे हैं, सात समन्दर पार से।। आज विश्व में हिन्दी के प्रति, बढ़ने लगा लगाव है। एक मात्र भाषा है जिसमें, सर्वधर्म समभाव है।। हिन्दी इतनी सहज कि इसको सब अपनाते प्यार से। हिन्दी के स्वर बुला रहे हैं सात समन्दर पार से।। सकल विश्व साहित्य आजकल, हिन्दी में उपलब्ध हैं। हिन्दी के बढ़ते प्रचलन से, हर भाषा स्तब्ध है।। प्रगति पंथ पर देश चला है हिन्दी के विस्तार से। हिन्दी के स्वर बुला रहे हैं सात समन्दर पार से।। वही देश उन्नत होता है, जिसकी भाषा एक हो। उसको जग सम्मानित करता, जिसके पास विवेक हो।। अनजाने अपने हो जाते हिन्दी के व्यवहार से। हिन्दी के स्वर बुला रहे हैं सात समन्दर पार से।। इस अधूरी कविता का पूरा आनंद लेने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.