अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

6:15 pm
कविता का अंश... स्त्री का भाग्य हर युग में, लिखते ही रहे हैं पुरुष। चाहे वह राजपुत्री हो या ग़रीब भिखारिन, आख़िर है तो चल-सम्पत्ति ही ! हम गढ़ते हैं उन्हें प्यालों की तरह, जिनमें पी सकें जीवन का अमृत। जब चाहे तोड़ कर उठा लें, फिर नया। और वे रंगीन चमकते प्याले, रह जाएँ सदा के लिए प्यासे और अतृप्त ! जिसे हम मानव सभ्यता कहते हैं, उसमें इससे अधिक असभ्य, और क्या होगा भला? कि आप जिसे माँ कहते हैं, वह आपके वंश की क्रूरता सह कर ही, पहुँचती है इस सम्मान तक ? और आपने ही बताया है उन्हें, कि हमारी क्रूरता भी सम्मान ही है। चूँकि समाज के विधान का नियमन, हम ही करते हैं ! सत्यवती के चरणों में बैठी हैं, तीनों अपहृत कन्याएँ। जिनका विवाह किया जाना है, हस्तिनापुर के राजा विचित्रवीर्य से ! पुरोहित कर रहे हैं, विवाह कर्म की तैयारियाँ। सत्यवती प्रसन्न है भीष्म के बाहुबल पर। गंगा-पुत्र यदि अपहरण न करते, काशीराज की कन्याओं का, तो क्या होता बेचारे विचित्रवीर्य का ? पुरुष जैसा भी हो छल या बल से, पा ही लेता है सुन्दर-सुशील स्त्रियाँ। ऐसे ही बनाया है हमने अपना समाज ! अम्बा धैर्य जुटा कर कहती हैं भीष्म से, मैं प्रेम करती हूँ राजा शाल्व से। और मन से उसे मान चुकी हूँ अपना वर। कुरुवंश में आकर भी, मैं मन से नहीं हो पाऊँगी इस वंश की। आपके भाई से मेरा विवाह, धर्म-सम्मत नहीं होगा देवव्रत ! तत्काल पुरोहितों और न्यायविदों से, परामर्श लेते हैं भीष्म और सत्यवती। निर्णय लिया जाता है, कि वृद्ध ब्राह्मणों और धात्रियों के साथ, अम्बा को विदा किया जाए, राजा शाल्व के नगर के लिए ! प्रेम की यात्रा पर, हस्तिनापुर छोड़ कर, बढ़ चली है अम्बा। उसके मन में है, आशाओं और आकाँक्षाओं का डोलता समुद्र। तेज़ी से धड़क रहा है हृदय, जिसमें धीमे-धीमे बज रहा है जलतरंग, आगे बढ़ते घोड़ों की टापों के साथ ! इस अधूरी कविता को पूरा सुनने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.