अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

कविता का अंश... शृंगार है हिंदी... खुसरो के हृदय का उद्गार है हिंदी। कबीर के दोहों का संसार है हिंदी।। मीरा के मन की पीर बन गूँजती घर-घर। सूर के सागर-सा विस्तार है हिंदी।। जन-जन के मानस में, बस गई गहरे तक। तुलसी के 'मानस' का विस्तार है हिंदी।। रहीम का जीवन-अनुभव बोलता इसमें। रसखान के सुरस की रसधार है हिंदी।। दादू और रैदास ने गाया है झूमकर। छू गई है मन के सभी तार है हिंदी।। 'सत्यार्थप्रकाश' बन अँधेरा मिटा दिया। टंकारा के ऋषि की टंकार है हिंदी।। गांधी की वाणी बनी भारत जगा दिया। सुराज के गीतों की ललकार है हिंदी।। 'कामायनी' का 'उर्वशी' का रूप है इसमें। 'आँसू' की करुण, सहज जलधार है हिंदी।। प्रसाद ने हिमाद्रि से ऊँचा उठा दिया। निराला की 'वीणा' की झंकार है हिंदी।। पीड़ित की पीर घुल यह 'गोदान' बन गई। भारत का है गौरव, शृंगार है हिंदी।। 'मधुशाला' की मधुरता इसमें घुली हुई दिनकर के 'द्वापर' की हुंकार है हिंदी।। इस अधूरी कविता का पूरा आनंद लेने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए....

एक टिप्पणी भेजें


  1. बहुत सुन्दर . .
    हिंदी दिवस की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिंदी है हम , वतन हैं हम


    बहुत सुन्दर . . हिंदी हमारी पहचान है

    उत्तर देंहटाएं

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.