अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:43 pm
समय... कविता का अंश... समय नहीं मिलता इन दिनों। मेरे पास हर बात का, बस एक ही जव़ाब है- समय नहीं मिलता। समय नाम की यह जिंस, आखिर क्यों नहीं मिलती ? क्या इसकी भी कालाबाजारी, शुरू हो गयी है? क्या तिजारतियों ने इसे, अपने गोदामों में भर लिया है ? क्या इसीलिए कुछ लोगों के पास, समय ही समय है? और कुछ के पास, बिलकुल भी नहीं ? मैं पूछता रहता हूँ ऐसे ही सवाल, समय-असमय। और पाता हूँ, कि समय हर किसी के पास है। उनके भी जिन्हें हर समय पता रहता है कि उनके पास वह है। और उनके पास भी, जिन्हें हर क्षण यह अहसास होता रहता है, कि उनके पास वह नहीं है। सभी के पास समय है, और सभी का समय, अलग-अलग है। यूँ यह बात दीगर है, कि समय किसी का भी नहीं होता। पुराने लोग कहा करते थे - हर बात के होने का एक समय होता है। इसलिए हर बात को, उसके समय पर ही होना चाहिए... इस अधूरी कविता का पूरा आनंद लेने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए.... संपर्क - kuldeep.kumar55@gmail.com

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.