अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

11:40 am
कहानी का अंश… नकुल ने अपना गुल्लक खोला और अपनी जमा पूंजी को गिना. अभी भी बहुत पैसे इकट्ठे करने हैं. पिछले तीन महीनों से वह पैसे बचा रहा था. आइसक्रीम चॉकलेट्स की अपनी इच्छा को दबाकर सारी पॉकेटमनी जमा कर देता था. इस बीच पड़े अपने जन्मदिन पर कपड़ों के लिए मिले पैसे भी उसने खर्च नहीं किए. घर में सभी जानते थे कि वह पैसे बचा रहा है पर क्यों यह एक रहस्य था. वह किसी को कुछ नहीं बताता था. घर वाले यह सोच कर खुश थे कि इसी बहाने बचत की आदत पड़ रही है. नकुल पढ़ने लिखने में बहुत होशियार था. सदैव अच्छे अंक लाता था. उसे यदि कोई टक्कर दे पाता था तो वह था उसका बेस्ट फ्रेंड संजीव. संजीव भी एक मेधावी छात्र था. नकुल और उसके बीच एक स्वस्थ प्रतियोगिता चलती थी कि देखें इस बार कौन कक्षा में प्रथम आता है. दोनों में आपस में बहुत प्रेम था. हाँलाकि दोनों के परिवारों की आर्थिक स्थिति में बहुत फ़र्क था. नकुल के माता पिता दोनों बहुत अच्छा कमाते थे. उसके घर में किसी चीज़ की कमी नहीं थी. जबकि संजीव के पिता एक छोटी सी दुकान चलाते थे. घर में प्रायः पैसों का अभाव रहता था. संजीव पढ़ने में अच्छा था इसीलिए उसकी फीस माफ थी तथा उसे छात्रवृत्ति भी मिलती थी. इसी कारण उसकी पढ़ाई चल पा रही थी. नकुल सोच रहा था कि अभी भी करीब डेढ़ हजार रुपये कम हैं उनकी व्यवस्था कैसे करूँ. बहुत सोचने पर भी कुछ सूझ नहीं रहा था. समय भी अधिक नहीं बचा था. अगले दिन जब वह स्कूल गया तो पता चला कि स्कूल में फेट होने वाली है. इसमें छात्र अपनी स्टॉल लगा सकते हैं. स्कूल को निश्चित राशि देने के बाद जो लाभ होगा वह उस छात्र का होगा. नकुल को बची हुई राशि एकत्र करने का रास्ता सूझ गया. नकुल एक अच्छा चित्रकार था. उसने कई पुरस्कार भी जीते थे. उसके पास वॉटरकलर से बनाए कई चित्र थे. आने वाले क्रिसमस व नए साल के लिए उसने कुछ कार्ड्स तथा चित्र और बना लिए. फेट में उसका स्टॉल सबके आकर्षण का केंद्र रहा. उसे अच्छा मुनाफा हुआ. स्कूल टूर के लिए पैसे जमा करने के लिए अब दो ही दिन बचे थे. लगभग सभी लोग पैसा जमा करा चुके थे. संजीव के पिता के पास इतने पैसे नहीं थे अतः वह टूर पर नहीं जा रहा था. नकुल संजीव के पिता को साथ लेकर क्लास टीचर से मिला और टूर के लिए पैसे जमा करा दिए. नकुल जानता था कि संजीव भी टूर पर जाना चाहता था लेकिन घर की आर्थिक स्थिति ठीक ना होने के कारण कुछ कह नहीं पा रहा था. नकुल भी अपने मित्र के बिना नहीं जाना चाहता था. अतः अब तक उसने भी पैसे जमा नहीं किए थे. वह स्वयं अपने मित्र की सहायता करना चाहता था. अतः पैसे बचा रहा था. पर्याप्त धन जमा हो जाने पर वह संजीव के पिता से मिला और उन्हें इस बात के लिए मना लिया कि वह संजीव के टूर के पैसे स्वयं देगा. अपने मम्मी पापा को जब उसने यह बात बताई तो उन्होंने भी उसका समर्थन किया. नकुल ने संजीव के पिता से कहा कि वह यह बात अभी उससे ना बताएं. सभी को 10 जनवरी को टूर पर निकलना था. उस दिन संजीव की सालगिरह थी. अतः अचानक उसे यह बात बता कर खुश कर देंगे. आगे क्या हुआ? यह जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.