अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

5:23 pm
कविता का अंश... माँ, मोम सी जलती रही, ताकि घर रोशन हो सके। और सब उस रोशन घर में बैठे, सुनहरे सपने बुना करते। परियों की कहानियाँ सुना करते। माँ की तपन से बेखबर, बात-बात से खुशियाँ चुना करते, और माँ जलती जाती, चुपचाप पिघलती जाती। मुर्गे की बांग से रात के सन्नाटे तक, बाजार के सौदे से घर के आटे तक। बापू की चीख से बच्चों ी छींक तक, सपनों की दुनिया से घर की लीक तक। माँ खुद को भुलाकर बस माँ होती थी, बिन माँगी एक दुआ होती थी। माँ चक्कर घिरनी सी घुमती रही, खुद अनकही पर सबकी सुनती रही। पर जब वह उदास होती, एक बात बड़ी खास होती, वह बापू से दूर दूर रहती, पर बच्चों के और पास होती। माँ ने खुद खींची थी, एक लक्ष्मण रेखा अपने चारों ओर। इसलिए नहीं माँगा कभी सोने का हिरण, कोई चमकती किरण। माँ को चाहिए था वो घर, जहाँ थे उनके नन्हें-नन्हें पर। जिनमें आसमाँ भरना था, हर सपना साकार बनाना था। पर जब सपने उड़ान भरने लगे, दुर्भाग्यवश धरा से ही डरने लगे, और माँ वक्त के थपेड़ों से भक-भक कर जलने लगी… इस अधूरी कविता का पूरा आनंद लेने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.