अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:47 pm
कहानी का अंश… एक पेड़ की डाल पर मोनू और सोनू नामक दो कबूतर रहते थे। सोनू बहुत मेहनती था जबकि मोनू आलसी था। मोनू सारा दिन सोता रहता था। सोनू कबूतर बाहर से दाना चुग कर लाता और उसमें से थोड़ा-बहुत माँगकर मोनू अपना पेट भरता था। बरसात आने से पहले सोनू कबूतर तिनके इकट्‌ठे करके खूबसूरत-सा घोंसला बना लेता ओर बरसात का मौसम आने पर मजे से उसमें रहता। लेकिन जब भी वह मोनू को घोंसला बनाने के लिए कहता तो वह कोई न कोई बहाना बनाकर बात को टाल देता। बरसात आने पर वह हर बार की तरह खुशामद करके सोनू के घोंसले में घुस जाता। इस तरह मोनू बिना कुछ किए अपना काम चलाता और सोनू दिन भर मेहनत करता रहता था। एक दिन उस पेड़ पर फिसी नाम की एक चिड़िया रहने के लिए आई। सोनू और मोनू ने जब उसे देखा तो वे दोनों बहुत खुश हुए। कुछ दिन बाद सोनू ने अपनी समस्या फिसी को बताई। फिसी ने उसकी बात ध्यान से सुनी और फिर कहा कि इसमें मोनू का कम लेकिन तुम्हारा दोष अधिक है। फिर उसने सोनू को मोनू का आलसीपन दूर करने का उपाय भी बताया। क्या उस उपाय से यानी कि चिड़िया की सीख से मोनू का आलसीपन दूर हो गया? क्या वह बदल गया? यह जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.