अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

2:42 pm
कहानी का अंश… पुराने खंडहर जैसे बने दुमंजिले मकान में पुरबिनी दादी अपने सैनिक रहे पति के साथ रहती थीं। धीरे-धीरे दोनों जीवन की उस दहलीज पर खड़े थे, जहाँ कमर झुक जाती है, बाल पक कर सफेद हो जाते हैं, चेहरा झुर्रियों से ढँक जाता है, शरीर दिन पर दिन शिथिल पड़ता जाता है और ऐसे समय में एक ऐसे सहारे की आवश्यकता होती है जो पत्नी पति को देती है और पति अपनी पत्नी को। और जिस मोड़ से जीवन की विदाई अति निकट मानी जाती है। मैं अक्सर अपने पिछवाड़े वाली खिड़की से उन दोनों की बातचीत सुना करती थी और कभी-कभी तो लड़ाई-झगड़ा भी इस कदर बढ़ जाता कि दादी चुपचाप ऊपर वाले कोठे पर चढ़ जाती और नीचे नहीं उतरती। बाबा नीचे से चिल्लाते, बुढ़िया नीचे आजा, मैं ऊपर नहीं चढ़ सकता। तुझे मनाऊँ कैसे? आजा मेरा हुक्का भर दे। और तब तक बुलाते रहते जब तक रोते-रोते आँखे लाल किए दादी नीचे नहीं आ जाती। हर बार की बारिश में उनके मकान का एक हिस्सा ढह जाता। ठीक वैसे ही जैसे कि उनके जीवन का अंतिम समय और पास आ गया हो। मुझसे छोटी बहन चित्रकला में पारंगत थी इसलिए मैं उससे कहती कि इनके घर का स्केच बना ले और लम्बी दाढ़ी वाले स्मार्ट बाबा का भी लेकिन खिड़की से सारे काम करना मुश्किल था। एक रोज तेज बारिश आँधी के कारण उनके घर का आगे का हिस्सा ढह गया। दोनों घर के अंदर कोठे में सो रहे थे। रात भर बेचैनी से निकाली, सुबह होते ही दौड़कर गई और जाकर देखा दोनों ठीक से तो हैं? पुराने घर का पुराना रास्ता तो ईश्वर की कृपा से बंद हो गया था। अब एक ऊँची-नीची पगडंडी बन गई थी, गिरी दीवार और आँगन के बीच। बाबा लाठी का सहारा लेकर उसी रास्ते से आया-जाया करते थे। माँ कहती, मुझे बड़ा तरस आता है। ये कभी गिर गए तो कौन सँभालेगा। लेकिन वो भी क्या करें? कभी तो बाहर गली में देखने का मन करता तो उन्हें आना पड़ता। हमारा आने-जाने का रास्ता बड़ा लम्बा था। पूरा घर पार करके जाओ तो समय लगता, इसलिए पिछवाड़े की खिड़की उन दोनों का हाल जानने के लिए काफी थी। एक दिन तेज बारिश से हमारे घर की पीछे की दीवार भी ढह गई। जिसमें खिड़की लगी थी। हम सब को तो जो खुशी मिली उसे कोई समझ नहीं सकता। घर के अन्य लोग तो चिंतित थे कि जल्दी से जल्दी दीवार बनवाई जाए। चोर-डाकुओं के लिए रास्ता खुल गया था। लेकिन हम बराबर माँ से कहते रहे कि माँ, पापाजी से कहकर पीछे एक दरवाजा निकलवा लेना। दादी को देखने में आसानी रहेगी। चूँकि माँ भी उनके लिए चिंतित थी, सो वह भी पापाजी से कहती रहती कि पीछे दरवाजा निकलवाना है। आगे की कहानी जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए… संपर्क - sharmarenu61@gmail.com

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.