अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

2:04 pm
कहानी का अंश… एक था रीछ। उसे शहद खाने का बड़ा शौक था। उसने बहुत-सा शहद हाँडियों में भरकर रखा था। एक दिन उधर से गुजरते हुए एक लोमड़ी की नजर शहद की हाँडी पर पड़ गई और वह शहद खाने का उपाय सोचने लगी। कुछ दिनों बाद ही उसे अवसर मिल गया। उस दिन झमाझम बारिश हो रही थी। वह दौड़ी-दौड़ी रीछ के घर आई और बोली – रीछ भाई, रीछ भाई, क्या तुम मुझे अपने घर में थोड़ी सी जगह सोने के लिए दोगी? रीछ ने कहा – मैं तुम्हें यदि जगह देता हूँ तो तुम मेरा क्या काम करोगी? लोमड़ी बोली – मैं तुम्हारे घर की सफाई कर दूँगी। रीछ ने कहा – तो आ जाओ। वैसे भी रीछ बहुत आलसी था। वह दिन भर शहद इकट़्ठा करने में लगा रहता था। उसका घर बहुत गंदा था। इसलिए उसने सोचा कि थोड़ी –सी सफाई हो जाएगी। उसने लोमड़ी को हाँ कह दिया। लोमड़ी उसके घर में आ गई। रात को दोनों सो गए। रीछ को गहरी नींद आ गई। उसके सोने के बाद लोमड़ी धीरे से उठी और हाँडी में से शहद खाने लगी। क्या उसकी यह चोरी पकड़ी गई? रीछ को पता चला कि नहीं? रीछ ने लोमड़ी के साथ क्या किया? लोमड़ी तो बहुत चतुर थी, तो उसने क्या बहाना बनाया होगा? आगे क्या हुआ? यह जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.