अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

3:05 pm
कविता का अंश... ढोल बाजे ढम ढम ढम भालू, बंदर, हिरन, हाथी नाचे छम छम छम बंदरिया ने पहनी पायल पायल बाजे झन झन झन। सरकस का जोकर आया, साथ में अपने बाँसुरी लाया। धुन में उसकी कोयल गाए, चिड़िया चहक-चहक इतराए। गीत उनके सबके मन भाए। लगी थिरकने चूँ चूँ चूहिया, घूमे लहँगा जैसे पहिया। सारे जानवर झूमते जाए, दिन सुहाने उनके आए। तभी पहुँचा जंगल का राजा, आँखें लाल हुई सुनकर बाजा। देता हूँ मैं सबको सजा, छीन लिया सोने का मजा। दहाड़ सुनकर वनराजा की, सिटटी-पिट्टी हो गई सबकी गुम, सीधी हो गई लहराती दुम। तभी हुआ एक अनोखा काम, शेर ने की ढीली गुस्से की लगाम। सबको खुश देखकर वह भी, गुस्सा अपना भूल गया, ढोल की थाप पर, वो खुशी से झूम गया। खुद ही बजाए ढोल ढम ढम ढम, नाचे सभी छम छम छम। ऐसी ही अन्य बाल कविताओं का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.