अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

3:09 pm
कविता का अंश... रात रुनझुन ने देखा ख्वाब, खेलोगे-कूदोगे बनोगे नवाब, पढ़ोगे-लिखोगे होगे खराब। बस फिर क्या था, सुबह हुई वह मम्मी से बोली, मुझको स्कूल नहीं जाना है, पार्क में जाकर खूब मौज उड़ाना है। सुनकर रुनझुन की अनोखी बात मम्मी हो गई हैरान। बात ये कैसे तुम्हारे मन में आई, क्या बिना पढ़े किसी ने मंजिल पाई? रुनझुन बोली – सपने में मैंने सच-सच देखा है, पढ़-लिखकर खराब होने का मजा मैंने चखा है। अब नहीं मुझे पढ़ना है, मौज मस्ती में ही रहना है। खेल-कूद कर नवाब मैं बन जाऊँगी, फिर सात समंदर पार उड़ जाऊँगी। मम्मी ने लाख समझाया, पर रुनझुन की समझ में न आया। सपने को ही सच माना, कॉपी-किताब से दूर जाने का ठाना। आई परीक्षा पास में, रुनझुन बैठी हरी-हारी घास में। कोई सवाल हल न कर पाई, पेपर देख आई रुलाई। रिजल्ट जब सामने आया, फूट-फूट कर रोना आया। सारे फ्रेंड्स पहुँचे अगली क्लास में, रुनझुन रह गई पिछली ही क्लास में। तब उसकी समझ में आया, मैंने अपना समय गँवाया। सपने झूठे भी होते हैं, और अपने सच्चे ही होते हैं। मम्मी-पापा, टीचर का कहना जो माना होता, दोस्तों का साथ न छूटा होता। दुख न इतना ज्यादा होता। टुनटुन, मुनमुन, चुनचुन उसकी नई सहेली है, रुनझुन ने हल कर दी उनकी भी यही पहेली है। प्यार से वह कहती है – खेलोगे-कूदोगे होओगे खराब, पढ़ोगे-लिखोगे बनोगे नवाब। यही सच है, इससे पूरे होंगे सारे ख्वाब। इस कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.