अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

11:17 am
कविता का अंश… वो हवा थी… हाँ, वो हवा ही थी… जो पास से गई गुजर। छूते ही उसके कुछ ऐसा हुआ असर, विस्मृत हुई पीडा, वेदना, दुख का मंज़र… हाँ, वो हवा ही थी… जो पास से गई गुजर। स्पर्ष उसका ऐसा लगा, मानो, माँ झुला रही हो झूला। सुला रही हो थपकी देकर। हाँ, वो हवा ही थी… जो पास से गई गुजर। उस हवा में थी रिश्तों की मिठास… अपनेपन का अहसास… किसी के आने की आस… हाँ, वो हवा ही थी… जो पास से गई गुजर। उस हवा में थी चाँदनी की शीतलतता, वसंत का आगमन, सावन के झूले, कोयल की कूक मनभावन। हाँ, वो हवा ही थी… जो पास से गई गुजर। पर, अचानक न जाने क्या हुआ, उस हवा में नहीं थी अब वो बात, वो थी क्षीण, असहाय, दुर्बल गात। लगी थी उसको किसी की नज़र… हाँ, वो हवा ही थी… जो पास से गई गुजर। इस अधूरी कविता को पूरा सुनने के साथ ही अन्य भावपूर्ण कविताओं का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.