अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

2:25 pm
कहानी का अंश… सापड़ सपड़ू नाम का एक लड़का था। घर में एक वही था, जो पढ़ने जाता था। सापड़ सपड़ू और बच्चों के साथ रोज घर से स्कूल जाने के लिए निकलता पर बीच में खेलने के लिए रूक जाता। उसका खेल भी बड़ा मजेदार था। उसका खेल था – मिट्टी में लोटना, खुद पर मिट्टी डालना और उछालना। एक दिन सापड़ सपड़ू की माँ को बहुत तेज बुखार आया तो उसके पिता सापड़ सपड़ू को स्कूल से बुलाने गए। पर ये क्या? सापड़ सपड़ू तो बीच रास्ते में ही मिट्टी में लोटपोट करता मिल गया। उसके पिताजी बहुत गुस्सा हुए और उसे पकड़कर घर ले आए। उन्होंने कहा – कल से तेरा स्कूल जाना बंद। अब सापड़ सपड़ू का स्कूल जाना बंद हो गया। वह जानवर चराने के लिए जाने लगा। पर इससे उसका मिट्टी में खेलना बंद नहीं हुआ। वह अपनी खेल की जगह पहुँचकर जानवरों को छोड़ देता और खुद मिट्टी में लोटपोट करने लगता। एक दिन तेज बारिश आई। सापड़ सपड़ू जानवरो को लेकर घर आ गया लेकिन वह बारिश में पूरा भीग गया था। फिर वो दो-तीन दिन बाद जानवर चराने के लिए गया। जानवरों को छोड़कर वह खेलने की तैयारी करने लगा। लेकिन आज गाय, भैंस, बछड़ा-बछड़ी सभी उसके आसपास ही मँडराने लगे। ऐसा क्यों हुआ? यह जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.