अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:22 pm
कविता का अंश... वो जो रामसजीवन था, खुशियों वाला ऑंगन था। फूलों सा उसका मन था, सबका जिया जुड़ावन था। जेठ दुपहरी सावन था, सचमुच ही मनभावन था। उस पर इक दिन कहर हुआ, शाम हुआ, दोपहर हुआ। खून का प्यासा देखो तो, उसका अपना शहर हुआ। पास फटा इक हथगोला, धरती आसमान डोला। चिथड़ों में तब्दील हुआ, उगता सा सूरज भोला। उसका बेटा ढेर हुआ, क्रूर समय का फेर हुआ। लाश हो गई घर वाली, अब क्या होली दीवाली। राम रहीम जूझ बैठे, खांर से अकड़े-ऐंठे। ख्वाब हो गए नूर मियाँ, हुए जिगर से दूर मियाँ। सुख में दुख में साथी थे, अब हैं चकनाचूर मियाँ। रामसजीवन बदल गया, करने लगे फितूर मियाँ। भरी जवानी टूट गया, प्याले जैसा फूट गया। किससे बात करे दिल की, अपने से ही रूठ गया। अब तो बहुत अकेला है, पड़ा सड़क पर ढेला है। वर्तमान की छाती पर, बस यादों का मेला है। अब जो रामसजीवन है, खाली खाली बर्तन है। टूटा टूटा दरपन है, मातम वाला आँगन है। पानी के बाहर जैसे, मछली वाली तड़पन है। रामसजीवन पहले का, मिले कभी जो तुम्हें कहीं, उसको घर पहुंचा देना, मेरी खोज खबर देना। तुमको जो लिखता आया, कहना तुमको ढूंढ रहा, कभी यहां तो कभी वहां, सारे जहां से अच्छा था, कहां गया वो हिंदोस्ताँ? रामसजीवन लौटो तो , एक बार फिर कविता में, अपनी खोई दुनिया में। कवि को नींद न आती है, बस तबियत घबराती है। रामसजीवन, नूरमियाँ इस रस्ते उस रस्ते से, आ जाओ चौरस्ते पर, लौटो चाय-नमस्ते पर। चौराहे पर देश खड़ा, गली गली अजगर लहरे, ज़ख्म दे रहा है गहरे। उसका फन मिलकर कुचलो, फिर से सूरज सा उछलो। अपनी सुबह निकल आए, काली रात दहल जाए। बंदूकें सब सो जाएं, हाथ न आएं, खो जाएं। मन से मन का तार जुड़े, तबला और सितार जुड़े। चेहरों से आतंक धुले, कोई खुशबू नई घुले। रामसजीवन पहले सा, फूलों जैसा खिले खुले। फिर से आएं नूर मियाँ, कितना अच्छा लगता था, बजते थे संतूर मियाँ.... इस अधूरी कविता को पूरा सुनने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.