अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

3:06 pm
कहानी का अंश… एक जंगल में एक बूढ़ा शेर रहता था। बुढ़ापे के कारण वह शिकार नहीं कर सकता था। उसके मुँह में दाँत और पैर के नाखून भी कमजोर हो गए थे। अपने शिकार के लिए उसे घंटो इंतजार करना होता था। कभी तो उसे कई दिनों तक खाना तक नसीब नहीं होता था। बूढ़े शेर को छोटे-मोटे पक्षी खाकर ही काम चलाना पड़ता था। एक बार उसे जंगल में किसी राहगीर का एक सोने का कंगन मिल गया। शेर ने उसे उठा लिया। अब बूढ़ा शेर उस कंगन को लेकर किसी को अपने जाल में फँसाने की तरकीब सोचने लगा लेकिन जो भी आदमी उसके पास कंगन देखता कि बजाय उसके पास आने के अपनी मौत के डर से भाग खड़ा होता। कई दिनों तक शेर को इस कंगन के सहारे कोई शिकार नहीं मिला। आखिर क्या हुआ होगा? क्या शेर को शिकार मिला या नहीं? यह जानने के लिए ऑडियो की सहायता लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.