अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

11:02 am
कहानी का अंश… एक व्यक्ति एक कोल्ड स्टोरेज में काम करता था। एक बार वह एक तकनीकी समस्या को सुलझाने में इतना व्यस्त हो गया कि उसे समय का ध्यान ही नहीं रहा। बहुत देर हो गई और फिर स्टोरेज बंद करने का समय भी हो गया। सारे सहकर्मी चले गए अैर संयंत्र के दरवाजे भी बंद कर दिए गए। तब कहीं जाकर उस व्यक्ति का ध्यान उस ओर गया। मगर तब तक बहुत देर हो चुकी थी। उसकी आवाज भी बंद दरवाजे से बाहर नहीं पहुँच सकती थी। वह जमाना मोबाइल फोन का जमाना भी नहीं था कि किसी को मोबाइल की सहायता से सूचना दी जाए। दूसरी तरफ वह व्यक्ति घर में अकेला ही था। इसलिए स्पष्ट था कि उसकी खोज-खबर लेने के लिए भी कोई नहीं आएगा। ऐसे में क्या किया जाए? वह व्यक्ति परेशान हो गया। धीरे-धीरे कोल्ड स्टोरेज की ठंड बढ़ने लगी। व्यक्ति की हालत खराब होने लगी। आखिर उसने मान ही लिया कि अगले दिन तक उसका बर्फ की तरह जमकर मर जाना तय है। तभी एक चमत्कार हुआ!!!! क्या था वह चमत्कार? यह जानने के लिए इस ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.