अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:36 pm
धरती देखती गगन की ओर कविता का अंश... धरती देखती गगन की ओर, कब गिरेंगी बूँदें चारों ओर। कब बिखरेगी हरियाली, कब मदमस्त होकर नाचेगा मोर। होगी शांति स्थापित कब और कब खत्म होगा ये शोर। अपने आँसू स्वयं पोछती, माता देखती गगन की ओर। जैसे चाँद को देखता है चकोर , धरती देखती गगन की ओर। सब रिश्ते नाते तोड़ कर मानव चला जिस मोड़ पर, उस पथ पर अँधियारा है घोर। कब मिटा कर अँधेरे की थाती, फिर चमकेगा सूरज चहुँ ओर। यही पूछती बेटों से, चुपचाप देखती मरण की ओर। धरती देखती गगन की ओर। धरती देखती गगन की ओर। लेकर मन में आशा के अंकुर, टूटे हुए सपनों की जोड़ती है डोर। यही सोचती मन ही मन की ना जाने कब होगी ये भोर। मानवीय दोहन से आहत, माता देखती दमन की ओर। धरती देखती गगन की ओर। धरती देखती गगन की ओर। सिमटती जा रही है माँ, मिटती जा रही है माँ, कब मानव करेगा जननी पर गौर? अपनी ही परछाई से डरती, धरती देखती गगन की ओर। धरती देखती गगन की ओर। धरती देखती गगन की ओर। इस कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.