अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

11:46 am
कहानी का अंश.... एक व्यक्ति था, वह बड़ा घमंडी था। उसका एक बाग था। घमंडी कुछ दिन के लिए शहर के बाहर गया था। स्कूल से लौटकर सभी बच्चे घमंडी के बाग में खेलते थे। वह बाग नरम घासवाला था। बाग बड़ा सुंदर था। पेड़ की टहनियों पर चिड़ियाँ गाती तो बच्चे उन्हें सुनने के लिए खेलना बंद कर देते थे। बच्चे बहुत खुश थे। एक दिन घमंडी वापस आ गया। अपने बाग में बच्चों को खेलते देखकर वह उन पर बहुत चिल्लाया। डर के मारे बच्चे भाग गए। घमंडी चिल्लाता रहा - यह बाग मेरा है। सिर्फ मेरा है। तुम यहाँ नहीं आ सकते। फिर घमंडी ने बाग के चारों ओर ऊँची दीवार बनवा दी। बाहर एक बोर्ड भी लगा दिया - बाग के अंदर आना मना है। फिर आया वसंत का मौसम। बाग में छोटे-छोटे फूल खिले। नन्हीं चिडिया चहकने लगी। घमंडी अपने पलंग पर लेटा था। उसने छोटी चिड़िया का मधुर संगीत सुना तो वह बाहर अाया। खिड़की के पास बैठी छोटी चिडि़या का गाना सुनकर उसे बहुत अच्छा लगा। उसने देखा कि कुछ बच्चे बाग की दीवार में बने एक छेद में से अंदर आ गए हैं और पेड् पर चढ़ गए हैं। आगे क्या हुआ यह जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए..

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.