अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:55 pm
कविता का अंश... शाम तन्हाई में, यूँ ही खयाल आया… दिन-रात के पुल पर, जिंदगी चलती है या जिंदगी के पुल पर, दिन-रात चलते है? सुख-दुख के पहियों पर, जिंदगी घूमती है या जिंदगी के पहियों पर, सुख-दुख घूमते हैं? आशा-निराशा के झूले पर, जिंदगी झूलती है या जिंदगी के झूले पर, आशा-निराशा झूलते हैँ? यादों-वादों के जंगल में, जिंदगी उलझी है या जिंदगी के जंगल में यादें-वादें उलझे हैं? मिलन-जुदाई के दो तट पर, जिंदगी खड़ी है या जिंदगी के तट पर, मिलन-जुदाई खड़े हैं? ऐसे ही खयालों की ज़मीन पर टहलते-टहलते, रात गहरा गई, चाँदनी बिखर गई। किसी ने झटका लटों को, और कहा – खयालों को भी, यूँ ही झटक लो। देखा, तो जिंदगी थी… मुस्करा रही थी… और कह रही थी… न सोचो मेरे बारे में, न उलझों मुझ में, बस मेरे साथ-साथ चलते चलो, तुम हो तो मैं हूँ, मैं हूँ तो तुम हो। एक-दूजे का हाथ थामे, हमें चलना है, आगे बढ़ते जाना है। और मैं चल पड़ी… चलती रही… चलती रहूँगी…. चलती रहूँगी….। इस कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.