अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:30 pm
कविता का अंश.... संयम के टूटेंगे फिर से अनुबंध, महुए की डाली पर उतरा बसंत। मधुबन की बस्ती में, सरसिज का डेरा है। सुमनों के अधरों तक, भँवरों का फेरा है। फुनगी पर गुंजित है, नेहों के छंद। महुए की डाली पर उतरा बसंत। किसलय के अंतर में, तरुणाई सजती है। कलियों के तनमन में, शहनाई बजती है। बहती, दिशाओं में जीवन की गंध। महुए की डाली पर उतरा बसंत। बौरों की मादकता, बिखरी अमरैया में, कुहु की लय छेड़ी, उन्मत कोयलिया ने। अभिसारी गीतों से, गुंजित दिगंत। महुए की डाली पर उतरा बसंत। सरसों के माथे पर, पीली चुनरिया है। झूमे है रह रहकर, बाली उमरिया है। केसरिया रंगों के, झरते मकरंद। महुए की डाली पर उतरा बसंत। बूढ़े से बरगद पर, यौवन चढ़ आया है। मन है बासंती पर, जर्जर-सी काया है। मधुरस है थोड़ा, पर तृष्णा अनंत। महुए की डाली पर उतरा बसंत। ऐसी ही अन्य कविताओं का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.