अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:06 pm
कविता का अंश... 'नेपथ्य' नेपथ्य का कवि हूँ मैं, अपने अल्फ़ाज़, बुन रहा हूँ, घोसलें की माफ़िक। रोज हर रोज, लड़ते हुए, अनगिनत चरित्रों से। इस छटपटाहट में कि, निकल कर रूबरू होऊं, अपने किरदार के साथ, अपने अंदाज़ के साथ। हो एक लंबा संवाद, मेरे और तुम्हारे साथ। सुनो मुझे देखो मुझे, यह मैं नहीं एक जमात है, जिसकी एक ही कहानी , मेरे पास है, खोल रख रहा हूँ, समक्ष तुम्हारे। मानो उधेड़ रहा हूँ, बुनी हुयी स्वेटर। एक छोर पकड़कर, ज्यों उधेरती है स्त्री, समझने के लिए डिजाइन। अंत में एक अनुभव, तुम्हारे पास होगा। एक जमात तुम्हारे साथ होगी। मैं शायद नेपथ्य से निकलकर, मंच पर आ जाऊंगा। एक नयी कविता, नए भावबोध, नयी तलाश, नए प्रतिमान, नयी ऊर्जा के साथ, तुम्हारी ही कहानी, अपने अंदाज मे, कह सुनाऊंगा । इस कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.