अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:02 pm
कविता का अंश... जब तान छिड़ी, मैं बोल उठा। जब थाप पड़ी, पग डोल उठा। औरों के स्वर में स्वर भर कर, अब तक गाया तो क्या गाया? सब लुटा विश्व को रंक हुआ, रीता तब मेरा अंक हुआ। दाता से फिर याचक बनकर, कण-कण पाया तो क्या पाया? जिस ओर उठी अंगुली जग की, उस ओर मुड़ी गति भी पग की। जग के अंचल से बंधा हुआ, खिंचता आया तो क्या आया? जो वर्तमान ने उगल दिया, उसको भविष्य ने निगल लिया। है ज्ञान, सत्य ही श्रेष्ठ किंतु जूठन खाया तो क्या खाया? इस कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए....

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.