अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:06 pm
कविता का अंश... बूढी माँ का मन अनमन है । उमर घटी है, समय नटी है, अब करतब दिखलाए। दो बेटों के बीच ठनी है, वो किसको समझाए ? आज स्वयं से ही, अनबन है । व्याकुल चित्त हुआ बूढी माँ का, घडी-घडी घबराए। दोनों ही अपनी ऊँगली है, कितना किसे दबाए ? हृदय में बढती, धड़कन है। शांत हो गयी लहरें बँटकर, माँ मझधार पड़ी। अपने ही घर के कोने में सहमी- सी रही खड़ी। पल पल तड़पन ही तड़पन है । खांसी आती ताने लेकर, आफत नई -नई। आज बड़े कल छोटे का दिन, माँ है बँटी हुई। टुकड़ों पर पलता जीवन है। ऐसी ही अन्य मर्मस्पर्शी कविताओं का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए... संपर्क - kktiwari.70@rediffmail.com

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.