अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:26 pm
कहानी का अंश... हजारों बरस पहले फिलीपिंस देश के पहाड़ी कस्बे में एक बूढ़ा रहता था। उसका नाम मलुंगाई था। उसकी पत्नी का नाम था मगंदा। उनकी कोई संतान नहीं थी। वे पेड़-पौधो को ही अपनी संतान मानकर उनकी देखभाल करते थे। बागियो में फूलों के अनेक वृक्ष थे। जून-जुलाई में वहाँ फूल से वृक्ष लद जाते थे। तब परियां वहाँ आती थी। उन्हें फूलों से बहुत प्यार था। रात में परियां झुंड बनाकर धरती पर आती थी। भोर की किरणें फूटते ही वे परीलोक लौट जाती थीं। उनमें लाल परी थी जिसे मनुष्य लोक की नदियों, तालाबाें और पहाड़ों में घूमना बहुत अच्छा लगता था। वे मनुष्य लोक में अधिक समय बिताना चाहती थी। परंतु परीलोक के नियमानुसार उसे सूरज उदय होने से पूर्व ही लौट आना होता था। एक दिन परी अपनी सहेलियों के साथ वहां से जब लौअ रही थी, तो उसकी छड़ी वहीं पर पड़ी रह गई। परीलोक पहुँच कर उसने छड़ी खोजी पर वह उसे नहीं मिली । तब उसने धरती पर आकर उसे खोजा। बूढ़ा मलुंगाई उसके पास आया और उसने बताया कि छड़ी उसके पास है, मगर वह उसे अपने साथ परीलोक की सैर करवा दे। परी ने कहा कि उसके पंख नहीं हैं, इसलिए वह उसे परीलोक नहीं ले जा सकती। तब परी मां के कहने पर लाल परी ने उसे जो भी वस्तु चाहिए वह देने का वादा किया पर मलुंगाई ने उससे सोना-चांदी, हीरे-मोती कुछ भी न मांगा, तो फिर मलुंगाई ने क्या मांगा? जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए....

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.