अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

6:00 pm
कहानी का अंश… एक लड़का था। उसका नाम था गोलू। वह दुनिया में बिलकुल अकेला था पर वह अपने गुणों के कारण सारे गाँव का प्रिय था। कोई उसे बचा हुआ खाना दे देता, तो कोई उसे अपने बच्चों के पुराने कपड़े। कोई अपने घर के बरामदे में सोने के लिए जगह दे देता। इसी तरह उसके दिन कट रहे थे। एक दिन शाम को गाँव के बाहर बने देवी मंदिर के पास बच्चे खेल रहे थे। तभी एक बाँसुरी वाला वहां आया और उसकी मीठी बाँसुरी की आवाज सुनकर बच्चे उसके आसपास जमा हो गए। वे कहने लगे – बाँसुरी वाले जाना नहीं, हम अभी अपने घर से पैसे लेकर आते हैं। कहते हुए बच्चो ने सरपट दौड़ लगाई और थोड़ी देर में ही घर से पैसे लेकर आ गए। बाँसुरी वाले की सभी बाँसुरी थोड़ी देर में ही बिक गई। सिर्फ एक बाँसुरी बाकी रही। नन्हा गोलू भी उसी झुंड में खड़ा था। बाँसुरी वाले ने उसे पुचकारते हुए कहा – बेटा, तुम्हें बाँसुरी पसंद नहीं है क्या? तुम अपने घर से पैसे लेकर क्यों नहीं आए? एक बच्चा बोला – इसका तो घर ही नहीं है। इसका इस दुनिया में कोई नहीं है। बाँसुरी वाले का मन भारी हो गया। उसने अपनी आखरी बाँसुरी उसे पकड़ाते हुए कहा – देखो बेटा, यह बाँसुरी थोड़ी चटकी हुई है, इसलिए मैं इसे नहीं बेच रहा था। तुम इसे रख लो। तुम्हें इसके लिए कुछ नहीं देना होगा। यह मेरी तरफ से तुम्हारे लिए उपहार है। गोलू का चेहरा खुशी से चमक उठा। उसे वह चटकी हुई बाँसुरी हजार कीमती खिलौनों से भी बढ़कर लगी। बेचारे ने जिंदगी में पहली बार मनोरंजन की कोई चीज पाई थी। बाँसुरी को लेकर अपने सीने से ऐसे चिपका लिया, जैसे कभी छोड़ेगा ही नहीं। तभी एक भिखारिन जैसी एक औरत वहाँ आई। उसके चेहरे पर उदासी थी। वह बोली – बच्चो, क्या कोई बाँसुरीवाला यहाँ आया था क्या? वह कहाँ गया? एक बच्चा बोला – उसकी सारी बाँसुरियाँ हमने खरीद ली। वह चला गया। यह सुनकर उस औरत की आँखें भर आई और वह बोली – मेरा बेटा पंद्रह दिन से बीमार है। वह झोपड़ी में पड़ा हुआ है। उसने बाँसुरी की आवाज सुनकर मुझे बाँसुरी खरीदने के लिए यहाँ भेजा था। पर अब तो बाँसुरी वाला यहाँ नहीं है। दूसरा बच्चा बोला – तुमने आने में देर कर दी। भिखारिन बोली – तुम सभी के पास तो ढेरों खिलौने हैं। क्या तुम अपनी बाँसुरी मुझे दे सकते हो। तुम लोग तो खाते-पीते घर के लड़के हो। यदि तुम में से कोई मुझे बाँसुरी देगा तो मेरा बेटा खुश हो जाएगा। बच्चे तो आखिर बच्चे थे। वे भला अपनी बाँसुरी उसे कैसे देते? तो क्या गोलू को उस भिखारीन स्त्री पर दया आई? क्या उसने अपनी बाँसुरी उसे दे दी? या वह भी दूसरे बच्चो की तरह ही वहाँ से चलीा गया? बेचारी उस स्त्री को अपने बच्चे के लिए बाँसुरी मिली या नहीं? यह जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.