अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:47 pm
माँ तुम गंगाजल होती हो... कविता का अंश... मेरी ही यादों में खोई अक्सर तुम पागल होती हो माँ तुम गंगा-जल होती हो! जीवन भर दुःख के पहाड़ पर तुम पीती आँसू के सागर फिर भी महकाती फूलों-सा मन का सूना संवत्सर जब-जब हम लय गति से भटकें तब-तब तुम मादल होती हो। व्रत, उत्सव, मेले की गणना कभी न तुम भूला करती हो सम्बन्धों की डोर पकड कर आजीवन झूला करती हो तुम कार्तिक की धुली चाँदनी से ज्यादा निर्मल होती हो। पल-पल जगती-सी आँखों में मेरी ख़ातिर स्वप्न सजाती अपनी उमर हमें देने को मंदिर में घंटियाँ बजाती जब-जब ये आँखें धुंधलाती तब-तब तुम काजल होती हो। हम तो नहीं भगीरथ जैसे कैसे सिर से कर्ज उतारें तुम तो ख़ुद ही गंगाजल हो तुमको हम किस जल से तारें तुझ पर फूल चढ़ाएँ कैसे तुम तो स्वयं कमल होती हो। इस कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.