अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

10:51 am
कविता का अंश… फिर मौसम बाँहों में भरना…. आएँगे, फिर अच्छे दिन आएँगे। हम खेतों में धान रोपकर गाएँगे। कुछ दिन और प्रतीक्षा करना, फिर मौसम बाँहों में भरना, सुख के दिन राहों में फूल सजाएँगे। प्रकृति होंठ पर दही लगा आचमन करेगी, कहीं अजंता, कहीं एलोरा माँग भरेंगी, पीले बाँसों में करील अंखुआएँगे। हारिल तोते टहनी-टहनी डोलेंगे, हम भी उनकी ही भाषा में बोलेंगे, पपीहे पंचम दा के सुर में गाएँगे। आसमान के बादल होंगे झीलों में, स्वप्न हमारे होंगे कोसों मीलों में, हम हाथों में कोई हाथ दबाएँगे। आएँगे, फिर अच्छे मौसम आएँगे। ऐसी ही अन्य भावपूर्ण कविताओं का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.