अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

2:28 pm
बचपन के दिन... कविता का अंश... याद आते हैं बचपन के दिन, तड़पाते हैं बचपन के दिन । वो दिन दादा के गाँव के, वो दिन पीपल की छाँव के , शैतानी के साज़िश के दिन, गर्मी के दिन बारिश के दिन। परियों के भूतों के क़िस्से, चोरी के आमों के हिस्से, वो दिन नुक्कड़ के नाई के, वो दिन कल्लू हलवाई के । याद आते हैं…… वो दिन चूरन के इमली के, वो दिन फूलों के तितली के, वो दिन सावन के झूलों के, वो दिन अनजानी भूलों के । चंदा के दिन तारों के दिन, खेलों के गुब्बारों के दिन , वो दिन अलमस्त नज़ारों के, वो दिन तीजों त्यौहारों के। याद आते हैं…… हैं याद दशहरे के मेले, वो चाट पकौड़ी के ठेले, वो रावण का पुतला जलना, वो राम का सीता से मिलना । जगमग वो दिन दीवली के, आतिशबाज़ी मतवाली के, वो दिन जो खील बताशों के, वो दिन जो खेल तमाशों के। याद आते हैं…… वो दिन गुझिया के कॉंजी के, वो दिन टेसू के झॉंझी के, वो दिन कटटी के साझी के, वो दिन ताशों की बाज़ी के । वो दिन होली के रंगों के, वो आपस के हुड़दंगों के, वो दिन मीठी ठंडाई के, नमकीन के और मिठाई के। याद आते हैं…… वो दिन अम्मा के खाने के, बाबू के लाड़ लड़ाने के, वो दिन गुडडे के गुड़िया के, वो दिन सपनों की दुनिया के। याद आते हैं... इस कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए... संपर्क - rekha_rajvanshi@yahoo.com.au

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.