अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:00 pm
कविता का अंश... कल रात भर मैं तन्‍हा ही भटकता रहा यादों के बियाबान जंगल में जंगल भरा पड़ा था खट्‌टी मीठी और कड़वी यादों के पेड़ पौधों से जंगल के बीचोंबीच उग आए थे कुछ मीठे अनुभवों के विशालकाय दरख़्त जो लदे पड़े थे मधुर एहसासों के फूलों-फलों से बीच-बीच में उग आई थी कड़़वे प्रसंगों की तीखी काँटेदार झाड़ियाँ जिनके पास से गुज़रने पर आज भी ताज़ा हो जाती है वो चुभन और उछल पड़ता है दिल मेरे एकदम सामने बैठी जुगनुओं जड़ी चादर ओढ़े मनमोहक, साँवली-सलोनी निशा नींद की बोतल से भर भर नैन कटोरे पिलाती रही मुझे रात रस लेकिन मैं बहका नहीं बढ़ता ही गया आगे और आगे । जंगल में एक साथ कईं दरख़्तों का सहारा ले झुलती नन्‍हीं समृतियों की बेलें पाँव से उलझ पड़ी अचानक और मैं गिरते गिरते बचा ! जंगल ने पीछा नहीं छोड़ा मेरा मैं भागना चाहता था मैंने कईं बार छुपाया स्‍वयं को रजाई में मगर जंगल था कि उसके भी भीतर आ गया उसने क़ैद करके रखा मुझे सुबह होने तक । इस कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.