सोमवार, 13 मार्च 2017

बाल कविता - बैगन जी की होली - कृष्ण कुमार यादव

कविता का अंश... टेढ़े-मेढ़े बैगन जी होली पर ससुराल चले बीच सड़क पर लुढ़क-लुढ़क कैसी ढुलमुल चाल चले पत्नी भिण्डी मैके में बनी-ठनी तैयार मिलीं हाथ पकड़ कर वह उनका ड्राइंगरूम में साथ चलीं मारे खुशी, ससुर कद्दू देख बल्लियों उछल पड़े लौकी सास रंग भीगी बैगन जी भी फिसल पड़े इतने में उनकी साली मिर्ची जी भी टपक पड़ीं रंग भरी पिचकारी ले जीजाजी पर झपट पड़ीं बैगन जी गीले-गीले हुए बैगनी से पीले। इस कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए....

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels