सोमवार, 31 मई 2021

हर कश में होती हैं हमारी सांसें कम



आज की जनधारा में 31 मई 21 को प्रकाशित





लोकस्वर बिलासपुर में 31 मई 21 को प्रकाशित




 

शनिवार, 22 मई 2021

ताकि सलामत रहे जीवन


21 मई 2021 को दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में प्रकाशित

 



गुरुवार, 20 मई 2021

आलेख - दिन टंगे हैं रस्सी पर...

लेखक - नवनीत गुर्जर


लेखक भास्कर ग्रुप के नेशनल एडिटर हैं। जो समय-समय पर समसामयिक विषयों पर अपनी कलम चलाते हैं।  
दैनिक भास्कर में प्रकाशित आलेख का आनंद लीजिए, इस ऑडियो की मदद से...

रविवार, 16 मई 2021

नन्हें कदमों की लम्बी दूरियाँ



अमर उजाला में 16 मई 21 को प्रकाशित
लोकस्वर बिलासपुर में 15 मई 21 को प्रकाशित






आज की जनधारा रायपुर  में 15 मई 21 को प्रकाशित

 


शुक्रवार, 14 मई 2021

वक्त का तकाजा: हो बयानबाजी पर प्रतिबंध

नवभारत रायपुर में 10 मई 2021 को प्रकाशित








 

बाल रामकथा - अध्याय 12 राम का राज्याभिषेक



राम का राज्याभिषेक
इस कथा का आनंद लीजिए, ऑडियो की मदद से...


बाल रामकथा - अध्याय 11 लंका-विजय


लंका-विजय

इस कथा का आनंद लीजिए, ऑडियो की मदद से...


बाल रामकथा - अध्याय 10 लंका में हनुमान



लंका में हनुमान
इस कथा का आनंद लीजिए, ऑडियो की मदद से...


बाल रामकथा - अध्याय 9 राम और सुग्रीव



राम और सुग्रीव
इस कथा का आनंद लीजिए, ऑडियो की मदद  से...


बाल रामकथा - अध्याय 8 सीता की खोज



सीता की खोज
इस कथा का आनंद लीजिए, ऑडियो की मदद से...


बाल रामकथा - अध्याय 7 सोने का हिरण



सोने का हिरण
इस कथा का आनंद लीजिए, ऑडियो की मदद से...


बाल रामकथा - अध्याय 6 दंडक वन में दस वर्ष



दंडक वन में दस वर्ष
इस कथा का आनंद लीजिए, ऑडियो की मदद से...


बाल रामकथा - अध्याय 5 चित्रकूट में भरत



चित्रकूट में भरत
इस कथा का आनंद लीजिए, ऑडियो की मदद से...


बाल रामकथा - अध्याय 4 राम का वन गमन




राम का वन गमन
इस कथा का आनंद लीजिए, ऑडियो की मदद से...


बाल रामकथा - अध्याय 3 दो वरदान



दो वरदान
इस कथा का आनंद लीजिए, ऑडियो के मदद से...


बाल रामकथा - अध्याय 2 जंगल और जनकपुर



जंगल और जनकपुर
इस कथा का आनंद लीजिए, ऑडियो की मदद से...

बाल रामकथा - अध्याय 1 अवधपुरी में राम



अवधपुरी में राम 
इस कथा का आनंद लीजिए, ऑडियो के माध्यम से...

मंगलवार, 11 मई 2021

कविता - कुरुक्षेत्र

vkvks lquk,¡ rqEgsa dgkuh dq#{ks= eSnku dh

gtkjksa ohjksa vkSj ohjkaxukvksa ds cfynku dhA

 

gkFkh] ?kksM+s] ekuo dh phRdkj ls j.k xw¡tk Fkk

fnd~&fnxar esa cl foIyo dk gh Loj xw¡tk FkkA

 

,d rjQ Fkh dkSjo lsuk] lsukifr Fks Hkh"e

ikaMo lsukifr /k`"V|qEu Hkh u Fks muls de

 

VDdj Fkh tksj dh] nksuksa vksj ls /otk QgjkbZ Fkh

nksuksa lsukvksa us ihNs u gVus dh dle [kkbZ FkhA

 

Jhd`".k us vkns'k fn;k & vtqZu xkaMho mBkvks

vius rhjksa dh ckSNkj ls 'k=q lsuk dks ekj fxjkvksA

 

Hk;fyIr gks vtqZu cksyk &

ureLrd eSa jgk lnk HkkbZ&ca/kqvksa] xq#tuksa ds vkxs

mUgsa ekjus ds fopkj ls gh ohjrk eq>ls nwj HkkxsA

 

rc Jhd`".k us fn;k j.k {ks= esa gh xhrk dk lans'k

lqudj ftls vtqZu dks rR{k.k feyk deZ dk mins'kA

 

xkaMho /kjk gkFk] f'k[kaMh dk fy;k lkFk

vkSj dkSjo lsukifr ij pyk, rhjksa is rhj]

cu izy; firkeg ij VwV iM+k oks 'kwjohjA

 

cu f'k[kaMh vack dh euksdkeuk iw.kZ gqbZ

pgqa fn'kkvksa esa vtqZu dh t;&t;dkj gqbZA

 

'kj&'k¸;k ij tc ysVs Hkh"e] vpafHkr Fks lqj&uj

ureLrd Fks dkSjo&ikaMo vkSj 'kksdeXu Fks fxj/kjA

 

Fkh vafre bPNk & ek¡ xaxk ikl vk tk,

vius Lusg dh ckSNkj ls iq= dh I;kl cq>k,A

 

rc vtqZu us pyk;k Hkwfe esa rhj

{k.k Hkj esa gh QwV iM+k xaxk&uhjA

 

n`'; vn~Hkqr ns[k dj nsork 'kh'k >qdkrs gSa

fnu ij fnu ;qn~/k esa dbZ ohj izk.k x¡okrs gSaA

 

vV~Bkjg fnuksa esa tc ;qn~/k iw.kZ gqvk

ikaMoksa ds gkFkksa esa gfLrukiqj lqjf{kr gqvk

rc Hkh"e firkeg dky dks ikl cqykrs gSa

/kU; gSa ;s egkuk;d egkHkkjr ds  

buds vkxs ge fur~&fur~ 'kh'k >qdkrs gSaA


इस कविता का आनंद लीजिए ऑडियो की मदद से


सोमवार, 10 मई 2021

नैतिकता के टूटते तटबंध

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में 10 मई 2021 को प्रकाशित





09 मई  2021 को राजनांदगाँव से प्रकाशित सबेरा संकेत में






 

शनिवार, 1 मई 2021

दादाजी कैसे होते हैं...

गिरिराज शिमला में 28 अप्रैल 2021 को प्रकाशित












 

कविताएँ - निदा फ़ाज़ली

वो शोख शोख नज़र सांवली सी एक लड़की
जो रोज़ मेरी गली से गुज़र के जाती है
सुना है
वो किसी लड़के से प्यार करती है
बहार हो के, तलाश-ए-बहार करती है
न कोई मेल न कोई लगाव है लेकिन न जाने क्यूँ
बस उसी वक़्त जब वो आती है
कुछ इंतिज़ार की आदत सी हो गई है
मुझे
एक अजनबी की ज़रूरत हो गई है मुझे
मेरे बरांडे के आगे यह फूस का छप्पर
गली के मोड पे खडा हुआ सा
एक पत्थर
वो एक झुकती हुई बदनुमा सी नीम की शाख
और उस पे जंगली कबूतर के घोंसले का निशाँ
यह सारी चीजें कि जैसे मुझी में शामिल हैं
मेरे दुखों में मेरी हर खुशी में शामिल हैं
मैं चाहता हूँ कि वो भी यूं ही गुज़रती रहे
अदा-ओ-नाज़ से लड़के को प्यार करती रहे

ग़ज़लकार निदा फ़ाज़ली की ऐसी ही कुछ रचनाओं का आनंद लीजिए, ऑडियो की मदद से...






Post Labels