बुधवार, 24 फ़रवरी 2016

रामधारी सिंह 'दिनकर' - कृष्ण की चेतावनी

रामधारी सिंह 'दिनकर' (२३ सितंबर १९०८- २४ अप्रैल १९७४) हिन्दी के एक प्रमुख लेखक, कवि व निबन्धकार थे। वे आधुनिक युग के श्रेष्ठ वीर रस के कवि के रूप में स्थापित हैं।'दिनकर' स्वतन्त्रता पूर्व एक विद्रोही कवि के रूप में स्थापित हुए और स्वतन्त्रता के बाद राष्ट्रकवि के नाम से जाने गए। वे छायावादोत्तर कवियों की पहली पीढ़ी के कवि थे। एक ओर उनकी कविताओ में ओज, विद्रोह, आक्रोश और क्रान्ति की पुकार है तो दूसरी ओर कोमल श्रृंगारिक भावनाओं की अभिव्यक्ति है। यहॉं प्रस्तुत है उनकी वीर रस से भरी हुई ओजपूर्ण कविता- कृष्ण की चेतावनी

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels