मंगलवार, 9 फ़रवरी 2016

निदा फ़ाज़ली की कुछ नज्में

निदा फ़ाज़ली ने इस फ़ानी दुनिया को रूखसत कर दिया लेकिन उनकी याद हमारे दिलों में बनी रहेगी। अपनी नज्मों के साथ वे हमेशा हमारे बीच रहेंगे। निदा अगली पीढ़ी के शायर थे। उनके दिल में मीर, मीरा, तुलसी, रहीम, कबीर एक साथ धड़कते थे। उनकी लेखनी में जमीनी सोचवाले शब्द फूटते थे। शायरी ऐसी जिसे हर कोई समझ जाए। परंपरा में रहकर कलम चलाते थे। जिसमें दोहे, नज्म, ग़ज़ल सभी का समावेश है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels