गुरुवार, 11 फ़रवरी 2016

वसंत, वसंत कहॉं हो तुम - डाॅ. महेश परिमल

अभी-अभी ठंड ने गरमी का चुंबन लिया है... समझ गया वसंत आनेवाला है। पर कहॉं है ? कहॉं खो गया है ? सीमेंट और कांक्रीट के जंगल में प्रकृति भी रंग बदलने लगी है। ऐसे में कहॉं खोजें हम अपने प्यारे वसंत को ? क्या सचमुच खो गया है या कहीं दुबक गया है हमारा वसंत ? आइए तलाशते हैं हम अपने वसंत को...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels