सोमवार, 5 अप्रैल 2021

बाल कविता - क्यों कवि - सोहनलाल द्विवेदी

क्यों बच्चों को नहीं सुहाता, 
पढ़ना-लिखना, शाला जाना?
खेल-कूद में मन लगता,
दिन भर घर में धूम मचाना?
क्यों भाती मन को रंगरेली?
सुलझाए यह कौन पहेली?

क्यों पतंग उड़ती है ऊपर?
क्यों न कभी नीचे को आती?
और गेंद फेंको जो ऊपर,
तो वह फौरन नीचे  आती।
चोट लगाते ठेला-ठेली
सुलझाए यह कौन पहेली?

कवि - सोहनलाल द्विवेदी




इस अधूरी कविता को पूरा सुनने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए...



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels