शुक्रवार, 20 नवंबर 2015

मैथिलीशरण गुप्‍त की कविताऍं

मैथिलीशरण गुप्‍त हिंदी के कवि थे। आपने खडीबोली को एक काव्‍य भाषा के रूप में निर्मित करने के लिए अथक प्रयास किया। हिंदी कविता के इतिहास में गुप्‍त जी का सबसे बडा योगदान है। पवित्रता, नैतिकता और परंपरागत मानवीय संबंधों की रक्षा गुप्‍त जी के काव्‍य के विशेष गुण हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels