बुधवार, 4 नवंबर 2015

जयशंकर प्रसाद की रचना - आँसू

छायावादी काव्‍यधारा के कवि जयशंकर प्रसाद की अमर कृति ऑंसू केवल विरह या पीडा का काव्‍य नहीं है, बल्कि वह जीवन और जगत के प्रति एक रचनाकार की दृष्टि का परिचायक और उन्‍नायक है। हिंदी काव्‍य जगत में 'ऑसू' का विशेष महत्‍व है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels