शुक्रवार, 18 दिसंबर 2015

श्रीनिवास श्रीकांत की कविताऍं -

इन्‍होंने कविताओं के माध्‍यम से जीवन के अनेक भावों का सूक्ष्‍म मानचित्रीकरण किया है। इनके काव्‍य जगत का विस्‍तृत फलक मानवीय परिवेश से ब्रह़मांड के रहस्‍यों तक फैला है -

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels