अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:17 pm
कहानी का अंश… अरुण अपने घर में सबसे छोटा था। कोई भी उसकी परवाह न करता था। माँ के अलावा कोई उसे नहीं चाहता था। उसके पिता और भाई उसे निरा मूर्ख और आलसी समझते थे। हर कोइ्र उससे अपना काम करवा लेता और फिर भगा देता। अरुण इन बातों का बुरा नहीं मानता था और उनकी बातों को हँस कर टाल देता था। वह उपेक्षित था फिर भी खुश रहता था। उसकी माँ उसे प्यार से खाना बनाकर देती और फिर खेतों की रखवाली के लिए खेत पर भेज देती। अरुण खेतों में जाकर बहुत खुश रहता। वहाँ सुनहरे खेतों में उसे अपनी मेहनत फलती-फूलती नजर आती। हरे-भरे पेड़ों पर चहचहाती चिडिया उसे बहुत अच्छी लगती थी। वह भी उनकी तरह ही इधर-उधर फुदकता फिरता। अपने खेतों में मन लगाकर काम करता। यहाँ आकर वह अपने सारे दुख भूल जाता था। उसे बाँसुरी बजाना बहुत अच्छा लगता था। साथ ही वह खाली समय में अपनी कल्पना में छाए चित्रों को कागज पर उतारता। जब कभी मन उदास होता तो रंगबिरंगे फूलों के बीच बैठकर बाँसुरी की मधुर तान छेड़ देता। उसे सुनकर आसपास के काम करने वालों के साथ-साथ पेड़-पौधे भी झूमने लगते थे। ऐसा प्यारा समां बँधता जिसमें वह अपने आपको भी भूल जाता था। मोहक वातावरण में अरुण सोचने लगता कि दुनिया कितनी सुंदर है। पता नहीं लोग क्यों आपस में लड़ते-झगड़ते रहते हैं? बचपन में अरुण ने अपने दादा-दादी से राजा-रानियों और परियों की कहानियाँ सुनी थी। अरुण सोचता कि वह कहानी अगर कहानी न होकर सचमुच ही होती तो कितना अच्छा होता, दुनिया की सारी कड़वाहट ही खत्म हो जाती। एक दिन अरुण कुछ ज्यादा ही उदास था। वह बिना किसी को बताए शाम को खेत पर आकर चुपचाप अपना काम करने लगा। शाम घिर आई पर वह काम करता ही रहा। पास में ही एक छोटा तालाब था। वहीं घने पेड़ के नीचे अधलेटा होकर उसने बाँसुरी की मधुर तान छेड़ दी। थोड़ी देर बाद ही उसे लगा कि जैसे पायलों की आवाज आ रही है। उसने हैरानी के साथ इधर-उधर देखा लेकिन कुछ दिखाई नहीं दिया। रुनझुन की आवाज धीरे-धीरे तेज हो रही थी। वह बेचैन हो उठा। लगा कि जरूर कोई बात है। लेकिन क्षणभर बाद ही उसने देखा कि नन्हीं-नन्हीं परियाँ रंगबिरंगे कपड़े पहनकर एक-दूसरे के हाथेां में हाथ डाले नाच रही हैं और वे गुनगुना भी रही हैं। अरुण यह देखकर पुलकित हो उठा। उसने ऐसा सुंदर दृश्य पहले कभी नहीं देखा था। आगे क्या हुआ? यह जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए….

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.