शनिवार, 2 जनवरी 2016

परीक्षा बच्‍चों की, कसौटी पालकों की - डाॅ. महेश परिमल

छत्‍तीसगढ़ की माटी में जन्‍मे डॉ. महेश परिमल मूल रूप से एक लेखक हैं। आजीविका के रूप में पत्रकारिता को अपनाने के बाद उनका लेखनकार्य जीवंत हो उठा। यहाँ उन्‍हीं का एक आलेख प्रस्‍तुत है -

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels