रविवार, 17 जनवरी 2016

बूढ़ी काकी - मुंशी प्रेमचंद

मुंशी प्रेमचंद की कहानियॉं आम जीवन से जुड़ी हुई होती हैं। बूढ़ी काकी कहानी भी उन्‍हीं में से एक हैं। बुढ़ापा बहुधा बचपन का पुनरागमन हुआ करता है। इसी उक्ति को इस कहानी के माध्‍यम से दर्शाया गया है। तो आइए, आनंद लीजिए इस कहानी का...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels