शनिवार, 23 जनवरी 2016

कहानी - कॉम्‍पलीकेशन

कभी-कभी जिंदगी में कुछ एेसे कॉम्‍पलीकेशन्‍स आ जाते हैं कि लाख प्रयत्‍न करने के बाद भी हम उसे ठीक करने में असमर्थ होते हैं। कुछ ऐसा ही हुआ डॉ. मयंक की जिंदगी में। कब, क्‍यों और कैसे? इन्‍हीं सवालों के जवाब जानिए इस कहानी में...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels