गुरुवार, 28 मई 2009

साबुन ने तय किया 110 साल का सफर


भारत में साबुन और डिटर्जेंट ने लंबा सफर तय किया है। ब्रिटिश शासन के दौरान लीवर ब्रदर्स इंग्लैंड ने भारत में पहली बार आधुनिक साबुन पेश करने
का जोखिम उठाया। कंपनी ने साबुन आयात किए और यहां उनकी मार्केटिंग की। हालांकि नॉर्थ वेस्ट सोप कंपनी पहली ऐसी कंपनी थी जिसने 1897 में यहां कारखाना लगाया।
उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर में पहला साबुन कारखाना खड़ा हुआ। प्रथम विश्व युद्ध के दौरान साबुन उद्योग बुरे दौर से गुजर रहा था लेकिन इसके बाद देश भर में उद्योग खूब फला-फूला। साबुन की कामयाबी की एक अहम कड़ी में जमशेदजी टाटा ने 1918 में केरल के कोच्चि में ओके कोकोनट ऑयल मिल्स खरीदी और देश की पहली स्वदेशी साबुन निर्माण इकाई स्थापित की। इसका नाम बदलकर टाटा ऑयल मिल्स कंपनी कर दिया गया और उसके पहले ब्रांडेड साबुन बाजार में 1930 की शुरुआत में दिखने लगे।

1937 के करीब साबुन धनी वर्ग की जरूरत बन गया। साबुन को लेकर ग्राहकों की पसंद अलग-अलग रही है। इसे हम क्षेत्रवार वर्गीकरण के तहत समझ सकते हैं। उत्तर भारत में उपभोक्ता गुलाबी रंग के साबुन को तरजीह देते हैं जिसका प्रोफाइल फूल आधारित होता है। यहां साबुन की खुशबू को लेकर ज्यादा आधुनिक प्रोफाइल चुने जाते हैं जो उनकी जीवनशैली का अक्स दिखाएं। नींबू की महक के साथ आने वाले साबुन भी खासी लोकप्रियता रखते हैं क्योंकि उत्तर भारत में मौसम बेहद गर्म रहता है और नींबू के खुशबू रखने वाले साबुन को तरो-ताजा होने के लिए अहम माना जाता है। साबुन को लेकर पूर्वी भारत ज्यादा बड़ा बाजार नहीं है और यहां साबुन तथा डिटर्जेंट की खुशबू को लेकर ज्यादा संजीदगी नहीं दिखाई जाती। पश्चिमी भारत में गुलाब की महक रखने वाले साबुन पसंद किए जाते हैं।
देश के दक्षिणी हिस्से में हर्बल-आयुर्वेदिक और चंदन आधारित साबुन की मांग ज्यादा है। यहां का ग्राहक किसी ब्रांड विशेष को लेकर ज्यादा लॉयल नहीं होता और दूसरी कंपनी का साबुन इस्तेमाल करने को लेकर खुला रुख रखता है। साबुन की मार्केटिंग करते वक्त महिलाओं को खास तवज्जो दी जाती है, क्योंकि कौन सा साबुन खरीदना है, यह फैसला परिवार में काफी हद तक उन पर निर्भर करता है। इसके अलावा परिवारों को प्रभावित करने के लिए कीटाणु मारने वाले एंटी-बैक्टीरियल और शरीर की दुर्गंध दूर करने वाले साबुन पेश किए जाते हैं।

6 टिप्‍पणियां:

  1. बेहद सक्षिप्त सी परन्तु अच्छी लगी

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत उपयोगी जानकारी.. आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  3. साबुन की कहानी, आपकी जुबानी। बहुत बहुत मेहरबानी।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    उत्तर देंहटाएं
  4. rhiman paani rakhiye bin paani sab soon
    aur
    nindak nyre rakhiye
    bin paani sabun bina nirmal krt subhay

    dono mein paani aur sabun ka jikr hai
    sabun ki khani likhi hai aapne umda hai. sabun bechne mat lg jana ek to gandgi itni mach gai hai ki koi bhi sabun asrdar nhi rha.doosre hum tmhe btor ptrkar khona nhi chahte doctor. vaise akhwar ko product mamne walon se khoge to unke liye jaisa sabun vaisa akhwar.hmare liye to akhwar hwa paani jaise jroori hai jairamji ki

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस संक्षिप्त जानकारी के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. अच्छी और उपयोगी जानकारी।

    उत्तर देंहटाएं

Post Labels