मंगलवार, 26 मई 2009

देश के दो महान नेता


ममता दी की सादगी
ममता बनर्जी भारतीय राजनीति की उन गिनी-चुनी महिलाओं में हैं जिन्होंने तमाम प्रतिकूल परिस्थितियों से जूझते हुए अपना अलग मुकाम बनाया है। आज पूर्वी भारत की वह सबसे शक्तिशाली महिला राजनेता हैं। बनर्जी की राजनीति की तरह ही उनका व्यक्तित्व भी बेहद रोचक है। अपने रूखे स्वभाव के लिए मशहूर ममता के बारे में कम लोगों को पता है कि वह एक संवेदनशील चित्रकार और कवियित्री हैं। शास्त्रीय संगीत में भी उनका अ'छा दखल है।
मंत्रालय का चाय-बिस्कुट भी स्वीकार नहीं

ममता बनर्जी की सादगी एक मिसाल है। वह अब भी कोलकाता के कालीघाट इलाके की झु'गी वस्तियों में एक कमरे के मकान में रहती हैं। दिल्ली भी आती हैं तो जूनियर सांसदों के लिए बने छोटे फ्ïलैट में रहती हैं। एनडीए सरकार के दौरान रेल मंत्रालय का जिम्मा संभालने वाली बनर्जी ने उस समय मंत्रालय के सभी कर्मचारियों को चकित कर दिया जब वह हर चाय के कप और बिस्कुट के पैसे का भुगतान अपनी जेब से करने लगीं। पार्टी में बनर्जी के सबसे करीबी सिपाही और उनका दाहिना हाथ समझे जाने वाले रतन मुखर्जी का कहना है कि ममता ने कभी एक कप चाय के पैसे का खर्च भी मंत्रालय पर नहीं डाला।
तुनुकमिजाज
उनके तुनुकमिजाजी के किस्से भी अनेक हैं। इसकी मिसालें भी कम नहीं हैं कि अपनी पार्टी में दूसरी पंक्ति के नेताओं को उभरने नहीं देतीं। इसकी बड़ी मिसाल वरिष्ठ नेता सुब्रत मुखर्जी खुद हैं।

दुर्गा के अनन्य भक्त हैं प्रणब दा

कांग्रेस के सबसे अनुभवी नेता प्रणब मुखर्जी की विद्वता तो जगजाहिर है, लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि वह देवी के अनन्य उपासक हैं। चाहे कड़ाके की सर्दी हो या दिल्ली की जानलेवा गर्मी, प्रणब दा हर रोज सुबह चंडी पाठ की स्तुति करके ही निकलते हैं। दुर्गा की स्तुति से जुड़े सभी श£ोक उन्हें कंठस्थ हैं। एक दिन इसकी बानगी संसद में भी देखने को मिली जब भाजपा के विजय कुमार मल्होत्रा दुर्गा पर छपी किसी विवादास्पद किताब का मुद्ïदा उठा रहे थे। प्रणब मुखर्जी ने मल्होत्रा को बीच में टोकते हुए दुर्गा शप्तशती का श£ोक सुनाया और यह जाहिर कर दिया कि धर्म ग्रंथों के बारे में उनकी जानकारी कितनी मजबूत है।
प्रणब दा के व्यक्तित्व का दूसरा पहलू है उनका क्षण में गुस्सा आना। छोटी-छोटी बातों पर नाराज होना उनका स्वभाव है, जिसके चलते उनके करीबी अक्सर डरते हैं। लेकिन वह यह भी कहते हैं कि जिस तेजी से उन्हें गुस्सा आता है उतनी ही तेजी से उतर भी जाता है।

1 टिप्पणी:

  1. aaj jaana,toh maine bhi maana ki vakai ye donon neta mahaan hain
    IS SAARTHAK POST K LIYE
    HAARDIK HAARDIK BADHAI

    उत्तर देंहटाएं

Post Labels