अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:46 pm
बाबू जी... कविता का अंश... घर के बाहर ओसारे पर, अटके रहते बाबू जी सूनी आँखों रस्ता सबका, तकते रहते बाबू जी पाला जिनको खून पिलाकर, उन्हें छोड़कर जीते हैं, यही सोचकर मन ही मन में, कुढ़ते रहते बाबू जी कोई आकर बात करे कुछ उनसे इस चौबारे में, पोता-पोती की कुछ बातें, रटते रहते बाबू जी रानी जैसा रखा जिसे वह रहती अविचल सेवा में, देख-देखकर यह सब मन में,घुटते रहते बाबू जी रोज शाम को छ्तपर चढ़कर शून्य बनाती नजरों से, अस्ताञ्चल को जाता सूरज, तकते रहते बाबू जी बात बिगड़ जाये यदि कोई, नहीं सँवरती कभी-कभी, अपनी हिकमत से हल सबकुछ्,करते रहते बाबू जी खाँसी का दौरा पड़ता है कभी रात को जोरों से, डाल रजाई मुख पर अन्दर, घुटते रहते बाबू जी खानदान में 'राज' किसी की, उठती चादर थोड़ी सी, इज्जत न मैली हो जाए, ढकते रहते बाबू जी। इस कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए... सम्पर्क- raajsaksena@gmail.com

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.