शुक्रवार, 3 फ़रवरी 2017

कविता - नदी पर 6 कविताएँ - डॉ. भावना

कविता का अंश... १. नदी जब उतरी थी, कल-कल करती पहाड़ों से, सुना था उसने, कहीं है समंदर, जहाँ पहुँचना/उससे मिलना, उसमें समा जाना सार्थकता है उसकी, नदी दिन-रात सपना देखा करती, सपने में समंदर देखती, जो अपनी विशाल भुजाएँ फैलाये, आतुर है उसे समा लेने को। नदी मन ही मन मुसकरा देती, और उसकी शोखी, क्ल-कल छल-छल ध्वनि में, हो उठती थी परिवर्तित। २ नदी अब खो गयी प्यार में, उसे अपनी सुध-बुध न रही, वह दौड़ती भागती , रास्ते की बाधाओं से बेखबर, पहुँची समंदर के पास। समंदर गौरवान्वित हुआ खुद पर, उसने फिर फाँस लिया एक और नदी को, अपने प्रेमपाश में। उसने बढ़ा दी अपनी भुजाएँ, और समा लिया उसे अपने भीतर। नदी उसके भीतर समाहित, हजारों नदियों सी एक नदी बन गयी, उसका अस्तित्व समाप्त हो गया। ३ एक दिन नदी ने समंदर से पूछा, प्रिये मैंने तुम्हारे लिए घर-बार छोड़ा, सगे संबंधियों को छोड़े, अपनी पहचान भी खो दी, फिर भी तुम्हारी नजर में, मेरी कोई अहमियत नहीं, समंदर मुसकराया और धीरे से कहा, प्रिये अहमियत तो दूसरों की होती है, तुम तो हमारे भीतर हो, हममें समाहित, तो फिर अहमियत कैसी, नदी खुद पर हँस पड़ी। ४ नदी समा गयी समंदर में, खो दिया है अपना कुल/गोत्र/पहचान भूल गयी है अपनी चाल, क्ल-कल छल-छल की ध्वनि, अपनी हँसी अपना एकांत, नदी जो अब विलीन है समंदर में, समंदर में दहाड़ती है हमेशा, पर उसके अंदर का आक्रोश दब सा जाता है, समंदर के शोर में। वह भागना चाहती है अपने अस्तित्व की तलाश में, लेकिन पत्थरों से टकरा कर लौट आती है, फिर फिर वहीं, नदी अब तड़पती है, अपनी पहचान की खातिर, उसके अनवरत आँसुओं ने, कर दिया है पूरे समंदर को नमकीन यह समंदर और कुछ नहीं, नदी के आँसू हैं और उसकी लहरें, नदी के हृदय का शोर। नदी जिसकी नियति तड़प है। ५ नदी जो तड़प रही है, अपनी पहचान की खातिर। तब सूरज नहीं देख पाया है, उसकी तड़प उसकी बेचैनी। उसने भर दी है अपने किरणों में, थोड़ी और गरमी, कर दिया है वाष्पीकृत उसके जल को, वह जल संधनित हो, मँडरा रहा बादल बन अंबर में। फिर बूँदों की शक्ल में आ गया है धरती पर, नदी खुश है अपने पुनर्जन्म से। अभिभूत है सूरज के उपकार से। जिसने उसे लौटा दिया है, उसका वजूद, उसकी पहचान नदी समंदर की विशालता को ठुकरा, अपनी छोटी सी दुनिया में खुश है। ६ नदी को अब भी याद आती है समंदर की, नदी अब भी तड़पती है समंदर के लिए, लेकिन नदी अब समझदार हो गयी है, वह नहीं मिटाना चाहती अपना वजूद, वह जीना चाहती है, अपनी स्वतंत्र पहचान के साथ। इन कविताओं का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए... संपर्क - bhavna.201120@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels