बुधवार, 28 अक्तूबर 2015

मन्‍नू भंडारी की कहानी अकेली

अकेली एक मनोवैज्ञानिक कहानी है। कहानीकार ने कहानी के पात्र सोमा बुआ की मनोव्‍यथा का बडा मार्मिक चित्रण किया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels