गुरुवार, 22 अक्तूबर 2015

बाल कविता हरीश परमार 1

छत्‍तीसगढ में हरीश परमार का नाम बाल साहित्‍यकार के रूप में जाना पहचाना है। उनकी कई कविताऍं क्षेत्रिय समाचार पत्रों में प्रकाशित होती रही हैं। प्रस्‍तुत हैं उनकी कुछ कविताऍं -

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels