शनिवार, 24 अक्तूबर 2015

बाल कहानी तलवार और गीत

बच्‍चों की मासूमियत में वो सच्‍चाई और भोलापन होता है कि उसके सामने एक कठोर दिल भी पिघल जाता हैा जब सिकंदर दूसरे नगर में आक्रमण करने आता है, तो वहाँ के भोलेभाले बच्‍चों की मधुर मुस्‍कान और मासूमियत भरी बातें सुनकर उसका मन बदल जाता है और वह लडाई का इरादा त्‍याग देता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels